ब्रेकिंग न्यूज़:

Farooq Engineer said – Indians were the first ‘bloody Indians’ for the British, they started licking our shoes after IPL | फारुख इंजीनियर ने कहा-अंग्रेजों के लिए भारतीय पहले ‘ब्लडी इंडियन’ थे, IPL के बाद वे हमारे जूते चाटने लगे

[ad_1]

  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Farooq Engineer Said Indians Were The First ‘bloody Indians’ For The British, They Started Licking Our Shoes After IPL

लंदन9 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
फारुख इंजीनियर भारत के लिए 46 टेस्ट 5 वनडे मैच खेल चुके हैं। - Dainik Bhaskar

फारुख इंजीनियर भारत के लिए 46 टेस्ट 5 वनडे मैच खेल चुके हैं।

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने 9 साल पुराने ट्वीट के आधार पर युवा क्रिकेटर ऑली रॉबिन्सन के अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने पर पाबंदी लगा दी है। जांच पूरी होने तक यह पाबंदी जारी रहेगी। रॉबिन्सन ने 2012 से लेकर 2013 तक एशियाई लोगों, महिलाओं और मुसलमानों के खिलाफ कई आपत्तिजनक ट्वीट किए थे। इंग्लैंड में रहने वाले भारतीय टीम के पूर्व विकेटकीपर फारुख इंजीनियर ने अब इस मामले पर अपना बयान दिया। उन्होंने इंग्लैंड की क्रिकेट और वहां के समाज में मौजूद नस्लभेदी सोच की बात भी की है।

इंग्लैंड के पीएम के बयान को अफसोसजनक कहा
फारुख इंजीनियर ने रॉबिन्सन मामले में इंग्लैंड के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के बयान को अफसोसजनक करार दिया है। जॉनसन ने कहा था कि रॉबिन्सन पर लगाया गया बैन कुछ ज्यादा ही कड़ी सजा है। भारत के पूर्व स्टार ने कहा कि ऐसे मामलों में प्रधानमंत्री का कूदना गलत है। इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने रॉबिन्सन पर बैन लगाकार अच्छा कदम उठाया है। गलती की सजा मिलनी ही चाहिए। इससे सभी के लिए संदेश जाएगा कि वे गलती कर बचेंगे नहीं।

लंकाशायर काउंटी क्रिकेट में होता था भेदभाव
इंजीनियर ने कहा जब वे क्रिकेट खेलते थे लंकाशायर काउंटी क्रिकेट में भारतीय क्रिकेटरों के साथ भेदभाव किया जाता था। उनका मानना है कि इंडियन प्रीमियर लीग की सफलता के बाद अंग्रेजों ने अपने रुख में नरमी लाई है। एक जमाने में हम भारतीयों को ब्लडी इंडियन मानते थे। अब वे हमारे जूते चाट रहे हैं।

18 साल में लोग समझदार हो जाते हैं
इंजीनियर ने कहा कि बहुत लोग यह कहकर रॉबिन्सन का बचाव कर रहे हैं कि जब उन्होंने ऐसी पोस्ट लिखी थी जब से सिर्फ 18 साल के थे। इंजीनियर के मुताबिक 18 साल में लोग समझदार हो जाते हैं और उस समय की गलती को भी ऐसे ही रफा-दफा नहीं किया जा सकता है।

70 के दशक में भारत के सबसे हैंडसम क्रिकेटर माने जाने वाले फारूख बाद में इंग्लैंड में ही बस गए।

70 के दशक में भारत के सबसे हैंडसम क्रिकेटर माने जाने वाले फारूख बाद में इंग्लैंड में ही बस गए।

लोग पूछते थे कि क्या मैं भारत से हूं
इंजीनियर ने बताया कि जब वे लंकाशायर काउंटी के लिए खेलने आए थे तो काउंटी से जुड़े लोग पूछते थे कि क्या वह भारत से है। जब वे ऐसा पूछते तो उनका लहजा तंज कसने वाला होता था। इसके अलावा अंग्रेज उनके उच्चारण का मजाक उड़ाते थे। इंजीनियर ने आगे कहा, ‘हालांकि, उन्हें जल्द ही पता चल गया कि मेरी अंग्रेजी उनसे अच्छी है। फिर वे मुझसे नहीं उलझते थे।’ इंजीनियर ने कहा कि मैंने अंग्रेजों को उनकी भाषा में जवाब देने के साथ-साथ बैट और ग्लव्स के साथ अच्छा परफॉर्म कर यह दिखा दिया कि हम भारतीय उनसे कम नहीं हैं।’

ज्योफ्री बायकॉट खुले आम कहते थे ब्लडी इंडियंस
इंजीनियर ने सायरस भरूचा के साथ एक पॉडकास्ट में बताया कि इंग्लैंड के पूर्व टेस्ट ओपनर ज्योफ्री बायकॉट खुले आम भारतीयों को ब्लडी इंडियन कहते थे। इंजीनियर ने कहा कि भले ही अन्य खिलाड़ी ऐसा खुल कर बोलते नहीं थे लेकिन उनके दिमाग में भी यही बात होती थी।

IPL ने अंग्रेजों को झुका दिया
इंजीनियर ने कहा कि IPL शुरू होने के बाद अंग्रेजों के लिए भारत अचानक से अच्छा हो गया। मौजूदा क्रिकेटर IPL में खेलने के लिए ललायित रहते हैं। पूर्व क्रिकेटर भी भारत की तारीफ के पुल बांधते रहते हैं। उनके लिए अब भारत में हर साल कुछ महीने काम करना और टीवी शो करना अंग्रेजों को काफी भाता है। वे पैसों को लिए अब हमारे जूते चाटते फिरते हैं।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

rashtrawadinews_ie0fh4
Author: rashtrawadinews_ie0fh4

ADMIN

rashtrawadinews_ie0fh4

ADMIN

rashtrawadinews_ie0fh4 has 10283 posts and counting. See all posts by rashtrawadinews_ie0fh4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hi Hindi
X