ब्रेकिंग न्यूज़:

Ayaz Memon Column Analysis on India Vs England 2nd Test Lords Test KL Rahul Performance | राहुल के प्रदर्शन से बदल गई आलोचकों की राय, मौजूदा हालात में टीम के बेस्ट बैट्समैन बने

[ad_1]

  • Hindi News
  • Sports
  • Ayaz Memon Column Analysis On India Vs England 2nd Test Lords Test KL Rahul Performance

नई दिल्ली10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
अयाज मेमन ने कहा कि राहुल ने जबर्दस्त प्रदर्शन कर आलोचकों को राय बदलने पर मजबूर कर दिया। राहुल को भाग्य की बदौलत मौका मिला, क्योंकि ओपनर शुभमन और मयंक चोटिल थे।  - Dainik Bhaskar

अयाज मेमन ने कहा कि राहुल ने जबर्दस्त प्रदर्शन कर आलोचकों को राय बदलने पर मजबूर कर दिया। राहुल को भाग्य की बदौलत मौका मिला, क्योंकि ओपनर शुभमन और मयंक चोटिल थे। 

मौजूदा सीरीज में राहुल ने शानदार प्रदर्शन किया है। वे सफेद गेंद विशेषज्ञ हैं। जब उन्हें इस दौरे के लिए चुना गया, तो संदेह पैदा हो गया था क्योंकि दौरे पर वनडे-टी-20 नहीं होने हैं। उन्होंने लाल गेंद के खेल में जबर्दस्त प्रदर्शन कर आलोचकों को राय बदलने पर मजबूर कर दिया। राहुल को भाग्य की बदौलत मौका मिला, क्योंकि ओपनर शुभमन और मयंक चोटिल थे।

राहुल मौजूदा हालात में टीम के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज के रूप में दिख रहे हैं, जबकि कंडीशन स्विंग और सीम गेंदबाजों को मदद कर रही हैं। ऐसा नहीं है कि राहुल ने टेस्ट नहीं खेला या इस फॉर्मेट में ओपनिंग नहीं की। लेकिन अच्छी शुरुआत के बाद उनकी टेस्ट की फॉर्म में गिरावट आई थी और उन्होंने अपनी जगह गंवा दी थी।

गेंदबाजों के अनुकूल परिस्थितियों में न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल हारने के बाद कप्तान कोहली और कोच शास्त्री ने राहुल के अनुभव की सराहना की थी। कर्नाटक के इस बल्लेबाज ने रोहित के साथ अच्छा तालमेल बनाया है। राहुल-रोहित इस सीरीज में पहले विकेट के लिए 97, 34, 126 की साझेदारी कर चुके हैं।

रोहित के स्ट्रोक्स फाइन थे तो राहुल ने परिस्थिितयों के अनुसार खेलने की क्षमता दिखाई। उन्होंने डिफेंस को अटैकिंग स्ट्रोक्स के साथ मिलाया। दुर्भाग्यवश मिडिल ऑर्डर फिर फेल रहा। पुजारा, रहाणे, कोहली खराब प्रदर्शन कर रहे हैं। इस वजह से भारत बड़ा स्कोर नहीं बना पा रहा है।

लॉर्ड्स टेस्ट की पहली पारी में राहुल ने पहले रोहित शर्मा और बाद में कोहली के साथ दो महत्वपूर्ण साझेदारियां की थीं।

लॉर्ड्स टेस्ट की पहली पारी में राहुल ने पहले रोहित शर्मा और बाद में कोहली के साथ दो महत्वपूर्ण साझेदारियां की थीं।

ट्रेंट ब्रिज में पहले टेस्ट में भारत सिर्फ जडेजा की वजह से पहली पारी में बढ़त लेने में कामयाब रहा था। दूसरे टेस्ट में भारत 267/2 पर था, लेकिन मध्यक्रम के खराब प्रदर्शन के कारण 364 का स्कोर बना पाया। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल और इस सीरीज की पहली तीन पारियों को देखें तो सबसे ज्यादा 237 रन राहुल ने बनाए हैं।

वहीं रोहित ने 195, पंत ने 107 और जडेजा ने 127 रन बनाए। कोहली (4 पारी में 99), पुजारा (5 पारी में 48), रहाणे (4 पारी में 70) ने निराश किया है। ये तीनों खिलाड़ी महीनों से शतक के सूखे से जूझ रहे हैं। हमारे टॉप ऑर्डर के पास काफी अनुभव है, लेकिन अगर वे बड़ा स्कोर नहीं करते हैं तो दबाव से गुजर रहे टीम प्रबंधन को विकल्पों की तलाश करनी होगी।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link

rashtrawadinews_ie0fh4
Author: rashtrawadinews_ie0fh4

ADMIN

rashtrawadinews_ie0fh4

ADMIN

rashtrawadinews_ie0fh4 has 10283 posts and counting. See all posts by rashtrawadinews_ie0fh4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hi Hindi
X