ब्रेकिंग न्यूज़:

Tata Motors Share Price: कोरोना काल में सबसे ज्यादा शेयरों ने किया निवेशकों को मालामाल

[ad_1]

मुंबई: कोरोना की महामारी बीते एक दशक में मानव इतिहास की सबसे बड़ी स्वास्थ्य आपदा बनकर उभरी है. इस महामारी के दौरान ऐसे कई शेयर हैं, जिन्होंने निवेशकों को मालामाल कर दिया है. ईटीमार्केट्स के आंकड़ों के अनुसार, साल 2009-10 के बाद ऐसे शेयरों की संख्या सबसे अधिक है.

दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं को कोरोना वायरस की महामारी से उबारने के लिए केंद्रीय बैंकों ने लिक्विडिटी बढ़ाने के उपाय किए. उन्होंने इसके लिए लगातार नोट छापे. सरकारों ने भी एक के बाद एक राहत पैकेज का ऐलान किए.

इसे भी पढ़ें:
बार्बेक्यू नेशन का आईपीओ खुला, क्या आपको करना चाहिए सब्सक्राइब?

एक जीवन बीमा कंपनी के मुख्य निवेश अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर कहा, “केंद्रीय बैंकों के उपायों और सरकारों द्वारा तुरंत उठाए गए कदमों के चलते शेयर बाजारों पर तेजड़ियों की पकड़ मजबूत हुई.”

ऐस इक्विटी से मिले आंकड़ों के अनुसार, साल 2020-21 में शुक्रवार तक 1,090 शेयरों या बीएसई पर सूचीबद्ध 45 फीसदी कंपनियों ने 100 फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया है.

pandemic-chart-1.

साल 2009-10 की तुलना में इस साल ऐसे शेयरों की संख्या अधिक रही, जिन्होंने 1,000 फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया. 1 अप्रैल 2020 के बाद आठ शेयरों- पीजी इलेक्ट्रॉप्लास्ट, तानला प्लेटफॉर्म, डिजिस्पाइस टेक्नोलॉजीज, सुबेक्स, वीनस रेमीडीज, सीजी पावर और जेके एंटरप्राइसेज ने इस सूची में अपनी जगह बनाई.

अडानी टोटल गैस ने 753 फीसदी, डिक्सन टेक्नोलॉजीज ने 497 फीसदी, हिदुस्तान कॉपर ने 491 फीसदी और टाटा एलेक्सी ने 339 फीसदी का रिटर्न दिया है. निफ्टी 50 इंडेक्स पर सबसे अधिक तेजी टाटा मोटर्स ने दिया है.

इसे भी पढ़ें:
अनुपम रसायन की खराब लिस्टिंग से निवेशक निराश, एक लॉट पर 1,000 रुपये का घाटा

केंद्रीय बैंक द्वारा लिक्विडिटी और नए निवेशकों की बढ़ी संख्या ने ऐसे समय में शेयरों की कीमत सातवें आसमान पर पहुंच दिया है, जब असल में अर्थव्यवस्था मंदी के दौर में है. मार्च में गिरावट के बाद रिटेल निवेशकों ने तेजी के साथ शेयर बाजार का रुक किया. सेबी के अनुसार, साल 2020-21 में 1 करोड़ डीमिट खाते खुले हैं.

बाजार के स्वतंत्र विश्लेषक धर्मेश कांत ने कहा कि लिक्विडिटी और नए निवेशकों के साथ-साथ बाजार की बेहतर होती स्थिति ने भी बाजार को मजबूती दी है. उन्होंने कहा, “कमाई काफी दमदार रही है और इस वित्त वर्ष में निफ्टी 50 कंपनियों की कमाई ग्रोथ में 10 फीसदी की ग्रोथ की उम्मीद है.”

pandemic-chart-2.
pandemic-chart-3.

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज के एक हालिया सर्वे के अनुसार, मौजूदा समय में बॉन्ड यील्ड में तेजी और महंगाई इक्विटी पोर्टफोलियो के लिए सबसे बड़ी चुनौती है. साल 2020-21 के दौरान घरेलू शेयर बाजारों ने 90 फीसदी से अधिक का रिटर्न दिया था.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए
यहां क्लिक करें.



[ad_2]

Source link

rashtrawadinews_ie0fh4
Author: rashtrawadinews_ie0fh4

ADMIN

rashtrawadinews_ie0fh4

ADMIN

rashtrawadinews_ie0fh4 has 10283 posts and counting. See all posts by rashtrawadinews_ie0fh4

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

hi Hindi
X